श्री अण्णा हजारे के आन्दोलन पर अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख श्री मनमोहन वैद्य का बयान


$img_titleश्री अण्णा हजारे के द्वारा भ्रष्टाचार के विरोध में चलने वाले आन्दोलन के निमित्त कल 16 अगस्त से दिल्ली में शुरू होने वाले धरना तथा अनशन को पहले दी गई अनुमति को नकारने का सरकार का निर्णय दुर्भाग्यपूर्ण एवं जनविरोधी है।  राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ सरकार की इस दुराग्रही वृत्ति की कड़े शब्दों में निंदा करता है एवं श्री अण्णा हजारे के आन्दोलन को अपना समर्थन प्रकट करता है।

श्री अण्णा हजारे के आन्दोलन को मिलने वाले प्रचण्ड जनसमर्थन की उपेक्षा कर बातचीत का रास्ता अपनाने के बदले संघर्ष का वातावरण बनाना अनावश्यक एवं अनुचित है।


इन्दौर, मनमोहन वैद्य 

दिनांक: १५ – ८- २०११,  अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख