The decade of Ram-Janmabhoomi movement A great Hindu upsurge of unity

1999

6 अगस्त NLFT के आतंकवादियों ने त्रिपुरा में चार संघ कार्यकर्ताओं का अपहरण किया। 2 करोड़ की फिरौती की माँग की। बाद में चारों को मार दिया गया।
28 अक्तूबर इस शतक के सबसे विध्वंसकारी चक्रवात से तटीय उड़िसा आहत हुआ। 10,000 लोगों की मौत हो गयी। उत्कल बिपन्न सहायता समिती के माध्यम से स्वयंसेवकों ने राहत कार्य के लिए भरसक प्रयास किए।

$img_title

Four full time workers - Dinendranath Day, Shayamalkanti Sen, Shubhankar Chakravarti and Sudhayamay Datta - Pracharaksof Sangh were abducted in Tripura by NLFT militants on August 6 demanding a ransom of Rs.2 crores. Later all the four pracharaks were killed.
The most devastating cyclone of the century hit the Coast of Orissa on October 28 causing a human loss of 10,000 and Rs.1800 crore property loss. Sangh played the lead role under the banner of Utkal Bipanna Sahayata Samiti in relief and rehabilitation activities.

 

 

1998

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की 50वीं वर्ष पूर्ति पर मुंबई में अधिवेशन।
20, 21, 22 नवम्बर मेरठ ‘समरसता संगम’ शिबिर में 5,200 गांवों से 51,200 स्वयंसेवक उपस्थित।
Sarsangh Chalak Shri Rajju Bhayya visited Japan and performed bhumi puja for the construction of Indo-Japan Cultural Centre on April 17.।
Golden Jubilee Celebrations of ABVP were inaugurated in Mumbai on December 25.

 

1997

9 फरवरी, उज्जैन, मध्य प्रदेश में, विराट सम्मेलन में 35,000 स्वयंसेवकों का पथ संचलन।
गुजरात में बाढ़ के समय स्वयंसेवक सहायता के लिए सक्रीय।
लुधियाना, पंजाब में स्वर्ण जयंती संघ समागम में 21,000 स्वयंसेवकों का गणवेश में सम्मेलन।
Sarsangchalak Sri Rajju Bhayya toured Kenya on the invitation of Hindu Council of Kenya from January 10th to 17th. During his visit Shri Rajju Bhayya addressed many gatherings of Indian familities, university students and met many government officials.
Golden Jubilee Sangh Samagam, Ludhiyana 21,000 Swayamsevaks gathering for one day.

 

1996

17 जून श्री बालासाहब देवरस का देहावसान।
नवम्बर आंध्र के गोदावरी जिले पर तीव्र चक्रवात का आघात। 900 लोगों की मृत्यु तथा भीषण हानि। जन संक्षेम समिती द्वारा संघ का राहत कार्य।
हरियाणा में चरखा-दादरी में विमान दुर्घटना ग्रस्त, 350 प्रवासियों की मौत। तत्काल सहायता करने वालों में संघ के स्वयंसेवकों की भूमिका की मीडिया द्वारा सराहना।
Sri Balasheb Deoras passed away on June 17.
Severe Cyclone hit the Godavari Districts of Andhra Pradesh in November causing 900 deaths and massive property loss. Sangh participated actively in the relief operations under the banner of Jana Sankshema Samiti.
Plane crash in Chakri Dadri, Haryana leaving 350 dead. Sangh's remarkable role in the relief operations were praised by the international press particularly the Gulf press.

 

1994

11 मार्च प्रो. राजेंद्र सिंह - रज्जूभैय्या - सरसंघचालक घोषित हुए।
संघ के अखिल भारतीय सेवा विभाग का प्रारंभ।
लघु उद्योग भारती का गठन।
Prof. Rajendra Singh - Rajju Bhayya - was designated as 4th Sarsangh Chalak of Sangh on March 11.
A.B. Seva Vibhag Started.
Laghu Udyog Bharati was founded.

 

1993

4 जून शासन द्वारा नियुक्त न्यायाधिकरण ने संघ पर प्रतिबंध को गलत ठहराते हुए निरस्त किया।
अखिल भारतीय पूर्व सैनिक सेवा परिषद का गठन।
Bahri Tribunal found the ban on Sangh unjustified and the ban was lifted on June 4.
A.B.Poorva Sainik Seva Parishad was founded.

 

1992

14 मई श्री. भाऊराव देवरस का देहावसान।
20 अगस्त श्री यादवराव जोशी का देहावसान।
6 दिसम्बर बाबरी ढांचा कारसेवकों द्वारा ध्वस्त।
10 दिसम्बर संघ पर तृतीय प्रतिबंध।
अखिल भारतीय अधिवक्ता परिषद का गठन।
Sri Bhavu Rao Desoras passed away on May 14.
Sri Yadavrao Joshi passed away on August 20.
Babri structure on Ram Janmabhoomi was removed by karsevaks on December 6.
Government banned Sangh for the third time on December 10.

 

1990

30 अक्तूबर मुलायम सिंह शासन के सारे प्रतिबंधो के बावजूद अयोध्या में कारसेवा।
Karseva was held in Ram Janmabhoomi in Ayodhya on October 30 daring all kinds of restrictions imposed by Mulayam Singh government.